23.6 C
New York
Saturday, July 13, 2024

Buy now

spot_img

कैबिनेट मंत्री कंवरपाल ने जगाधरी स्थित अपने कार्यालय पर सुनी जन समस्याएं।

कैबिनेट मंत्री कंवरपाल ने जगाधरी स्थित अपने कार्यालय पर सुनी जन समस्याएं।

9 सालों में पिछली सरकारों की तुलना में वर्तमान सरकार ने करवाए दोगुने काम, पैसा भी हुआ आधा खर्च- मंत्री कंवरपाल

 

यमुनानगर, प्रदेश एजेंडा न्यूज रविन्द्र चौहान

कैबिनेट मंत्री कंवरपाल ने आज जगाधरी अपने निवास स्थित कार्यालय पर जन समस्याएं सुनी। इस दौरान जो भी समस्याएं उनके समक्ष रखी गई उनमें से अधिकतर का मौके पर ही समाधान कर दिया गया, वही कुछ शिकायतों के समाधान के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को फोन पर दिशा निर्देश दिए। कैबिनेट मंत्री कंवरपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लगभग साढे 9 साल के केन्द्र सरकार के कार्यकाल में अनेकों जनहितैषी योजनाएं शुरू की गई हैं तथा उसी तर्ज पर हरियाणा सरकार ने भी व्यवस्था परिवर्तन कर जन कल्याण के कार्य किए हैं। उन्होंने कहा कि आने वाली 26 अक्टूबर को उनकी सरकार के 9 साल पूरे हो जाएंगे, इन 9 सालों में पिछली सरकारों की तुलना में वर्तमान सरकार ने दोगुने काम करवाए है और पैसा भी आधा खर्च किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारों में जो भ्रष्टाचार और सरकारी ग्रांट की जो लिकेज होती थी उस पर रोक लगाई गई है। उन्होंने कहा कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी ने एक बार कहा था कि ऊपर से जो एक रुपया भेजा जाता था, नीचे 15 पैसे ही पहुंचते हैं, उस समय केंद्र व प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी और तब हम सोचते थे कि 85 पैसे कहां जाते हैं। विकास कार्यों का यह पैसा ऊपर से नीचे तक उस समय बंट जाता था जबकि आज मोदी सरकार में केंद्र से 100 रूपये आते है तो नीचे 100 रुपये ही खर्च होते हैं। विकास कार्यों को सही प्रकार से करवाना और सिस्टम को सही करना यह इस सरकार की प्राथमिकता रही है। कैबिनेट मंत्री ने व्यवस्था परिवर्तन के लिए किए गए प्रकल्पों की जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने पहली बार हर परिवार का परिवार पहचान पत्र बनवाया है। पीपीपी में दर्ज जानकारी पूरी तरह से सटीक है। पीपीपी के आधार पर किसी भी शहर की आबादी की सही जानकारी का पता चल जाता है। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि अब पेंशन के लिए दफ्तरों के चक्कर नही काटने पड़ते, तीन लाख रुपये की सालाना आय वाले बुजुर्गों की स्वत: ही पेंशन बनी है। यह सब पीपीपी में दर्ज आंकड़ों के कारण ही संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में हजारों लोगों की पेंशन पीपीपी के माध्यम से लगी है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles