9.1 C
New York
Thursday, April 18, 2024

Buy now

spot_img

कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर बनेगा प्रदेश का पहला सिख संग्रहालय और धरोहर केन्द्र:सुधा

कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर बनेगा प्रदेश का पहला सिख संग्रहालय और धरोहर केन्द्र:सुधा

प्रदेश सरकार ने प्रोजेक्ट को दी हरी झंडी, केडीबी की तरफ से थीम पार्क में 3 एकड़ भूमि दी हरियाणा पुरातत्व एवं सर्वेक्षण विभाग को, कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर सिखों के 7 गुरुओं ने रखे अपने चरण

कुरुक्षेत्र प्रदेश एजेण्डा न्यूज़

विधायक सुभाष सुधा ने कहा कि राज्य सरकार ने कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर प्रदेश का पहला सिख संग्रहालय और धरोहर केन्द्र बनाने की परियोजना को हरी झंडी दे दी है। यह सिख संग्रहालय छठी पातशाही गुरुद्वारा के साथ थीम पार्क में 3 एकड़ जमीन पर बनाया जाएगा। इस जमीन को कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड ने हरियाणा पुरातत्व एवं सर्वेक्षण विभाग को हस्तांतरित कर दिया है। अहम पहलू यह है कि कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर सिखों के 7 गुरुओं ने अपने चरण रखे और इस भूमि को पवित्र किया।
विधायक सुभाष सुधा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हरियाणा प्रदेश के सिख समुदाय की लम्बे अरसेे से बहुत बडी मांग रही कि कुरुक्षेत्र की धरा पर सिख संग्रहालय का निर्माण किया जाए। इस पावन धरा पर सिखों के पहले गुरु जगत गुरु श्री गुरु नानक देव जी महाराज पहली उदासी के दौरान 1558 बैसाख की आमावस सूर्यग्रहण के समय पहुंचे, सिखों के तीसरे गुरु, गुरु अमरदास जी महाराज सन 1560 सूर्य ग्रहण के समय परिवार सहित कुरुक्षेत्र पधारे, सिखों के छठे गुरु, गुरु हरगोबिंद साहिब सन 1620 मई के महीने में कुरुक्षेत्र पहुंचे और एक मिट्टी के टीले पर बैठे जहां आज छठी पातशाही का महान स्थान है। सिखों के सातवें गुरु, गुरु हरिराय साहिब 10 मार्च 1656 ई० आमावस वाले दिन कुरुक्षेत्र पहुंचे, उसी स्थान जहां पहले गुरु अमरदास जी ने अपने चरण डाले थे।
विधायक ने कहा कि कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर 8वीं पातशाही गुरु हरि कृष्ण साहिब ई०में पहुंचे और सिख धर्म के नौवें गुरु पातशाह श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी 1665 में अपने मालवा दौरे के दौरान कुरुक्षेत्र पहुंचे और यहां पर उन्होंने संगत और संतों को अध्यात्म के मार्ग पर चलने का उपदेश दिया था। सिखों के 10वें गुरु, श्री गुरु गोबिंद सिंह जी  महाराज 1688-86 में सूर्य ग्रहण के समय कुरुक्षेत्र पहुंंचे। इससे स्पष्टï होता है कि कुरुक्षेत्र ही एक ऐसी पावन धरा है जहां पर सिखों के 7 गुरुओं ने अपने चरण रखे और इस पावन धरा को पवित्र किया।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने लाखों सिखों की मांग को पूरा करते हुए कुरुक्षेत्र के थीम पार्क में 3 एकड़ भूमि पर भव्य, सुंदर, ऐतिहासिक और यादगार सिख संग्रहालय और धरोहर केन्द्र बनाने की योजना को स्वीकृति दी है। यह भूमि केडीबी की तरफ से हरियाणा पुरातत्व एवं सर्वेक्षण विभाग को 99 साल के पट्टे पर सौंपी है, इस भूमि का स्वामित्व केडीबी के पास ही रहेगा। इस संग्रहालय में सिख गुरुओं के इतिहास को संजोया जाएगा। इससे युवा पीढ़ी को सिख गुरुओं के इतिहास को जानने का अवसर मिलेगा। इस संग्रहालय के निर्माण कार्य पूरा होने के बाद कुरुक्षेत्र पर्यटन की दृष्टिï से विश्व के मानचित्र पर और अधिक विकसित होगा और देश विदेश के सिख श्रद्धालु इस संग्रहालय को देखने के लिए पहुंचेंगे। यह परियोजना एक बहुत बडा प्रोजेक्ट पर और इस प्रोजेक्ट पर करोड़ों रुपए का बजट भी खर्च किया जाएगा।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles