23.1 C
New York
Tuesday, June 25, 2024

Buy now

spot_img

हरियाणा प्रदेश के 395 पीजीटी संस्कृत अध्यापकों की हुई पदोन्नति – स्कूल शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल गुर्जर 

हरियाणा प्रदेश के 395 पीजीटी संस्कृत अध्यापकों की हुई पदोन्नति – स्कूल शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल गुर्जर

हरियाणा राज्य संस्कृत अध्यापक संघ के पदाधिकारियों ने स्कूल शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल गुर्जर  का जताया आभार।

17 साल के बनवास के बाद स्कूल शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल गुर्जर जी की कलम से हुआ ऐतिहासिक निर्णय — अध्यापक संघ

यमुनानगर प्रदेश एजेण्डा न्यूज़

हरियाणा में पिछले 17 वर्षों से पदोन्नति का इंतजार कर रहे पीजीटी संस्कृत अध्यापकों के लिए खुशी की खबर है। शिक्षा विभाग ने 395 अध्यापकों की पदोन्नति के आदेश जारी कर दिए है। जो वर्ष 2007 से पदोन्नति का इंतजार कर रहे थे। सरकार के इस फैसले के बाद हरियाणा राज्य संस्कृत अध्यापक संघ के राज्य प्रधान राम प्रसाद कौशिक के नेतृत्व में पूरे प्रदेश से आए संघ के पदाधिकारियों और संस्कृत अध्यापकों ने स्कूल शिक्षा मंत्री कंवर पाल जी के आवास पर पहुंच उनको पगड़ी बांध कर पुष्प गुच्छ और स्मृति चिह्न देकर उनका आभार व्यक्त किया।

स्कूल शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल जी के प्रयासों और इनकी कलम से संस्कृत अध्यापकों के हित में यह ऐतिहासिक फैसला हुआ है। यह मांग बहुत लंबे समय से अटकी हुई थी, जिसे मुख्यमंत्री मनोहर लाल जी व स्कूल शिक्षामंत्री कंवरपाल जी ने गंभीरता से लिया और एक ऐतिहासिक फैंसला लेकर बहुत बड़ी सौगात दी है।

395 संस्कृत अध्यापकों की पदोन्नति हुई है और उन्हें पोस्टिंग भी मिल गई है। सरकार के इस फैसले से संस्कृत प्रेमियों में उत्साह का संचार होगा और प्रदेश में संस्कृत भाषा को बढ़ावा मिलेगा।

स्कूल शिक्षामंत्री चौधरी कंवर पाल जी ने कहा इनकी लंबे समय से यह मांग थी। पदोन्नति के इस विषय को लेकर इनका प्रतिनिधि मंडल मुझे मिला था। उसके लिए हमने और अधिकारियों ने प्रयास किया और उन प्रयासों के बाद इन सब की पदोन्नति हो गई है। संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है, जिसमें हमारे वेद, उपनिषद व अन्य धार्मिक ग्रंथों का ज्ञान निहित है। राज्य सरकार का सदैव यह प्रयास रहेगा कि यह ज्ञान लोगों तक पहुंचे। संस्कृत भाषा पर शिक्षा शास्त्री व आचार्य जैसी शैक्षणिक योग्यता रखने वालों की पकड़ अन्य लोगों की तुलना में अधिक होती है। जिसको सरकार ने माना है। संस्कृत भाषा को और अधिक बढ़ावा मिलना चाहिए, जिसके लिए सरकार प्रयासरत है । संस्कृत पूरे तरीके से एक वैज्ञानिक भाषा है पूरी दुनिया ने इस बात को स्वीकार किया है आने वाले समय में संस्कृत का बहुत उज्जवल भविष्य है और यह दुनिया की भाषा बनेगी।
इस मौके पर राज्य संस्कृत अध्यापक संघ के राज्य प्रधान राम प्रसाद कौशिक,संरक्षक रोशन लाल,यमुनानगर से जिला प्रधान सतीश कंबोज,महेन्द्रगढ़ से रोहताश यादव,कुरूक्षेत्र से पवन भारद्वाज,करनाल से दिनेश कुमार,कैथल से रतन कुमार,सोनीपत से राम निवास ,जींद से डॉ श्री भगवान,कंवरपाल शास्त्री,सुरेश,डॉ रजनीश ,अमन कुमार जंगशेर,विमला देवी,छोटा देवी,सरोज सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles