23.4 C
New York
Saturday, July 13, 2024

Buy now

spot_img

राजकीय महाविद्यालय, अहड़वाला बिलासपुर में सांस्कृतिक समिति के तत्वाधान में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘सरस’ का आयोजन किया गया।

 

राजकीय महाविद्यालय, अहड़वाला बिलासपुर में सांस्कृतिक समिति के तत्वाधान में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘सरस’ का आयोजन किया गया।

बिलासपुर सरदारी लाल प्रदेश एजेण्डा न्यूज़

राजकीय महाविद्यालय, अहड़वाला बिलासपुर में सांस्कृतिक समिति के तत्वाधान में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘सरस’ का आयोजन किया गया। जिसमें आज द्वितीय दिवस कार्यक्रम में आज के मुख्य अतिथि के रूप में उच्च शिक्षा, हरियाणा के डिप्टी डायरेक्टर डॉ सुखविंदर सिंह ने शिरकत की। सर्वप्रथम महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ सर्वजीत कौर ने मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा हरियाणा के डिप्टी डायरेक्टर डॉक्टर सुखविंदर सिंह को पुष्पगुच्छ देकर उनका स्वागत किया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्जवलित करके किया गया। तत्पश्चात महाविद्यालय की प्राचार्या ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा आज के मुख्य अतिथि केवल अध्यापन कार्य से ही नहीं बल्कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों से भी जुड़े रहे हैं। वह हमेशा कला और संस्कृति से जुड़े रहे हैं और अब उच्च शिक्षा हरियाणा की ओर से इन्हें सुशासन के लिए सम्मानित किया गया। इनके पश्चात आज के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा, हरियाणा के डिप्टी डायरेक्टर डॉक्टर सुखविंदर सिंह ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा सीखने के लिए आओ और फिर समाज की सेवा करो। उन्होंने कहा पढ़ाई कोई चाय का कप नहीं जिसे एकदम पिया जा सकता है। पढ़ाई के लिए बहुत ही मेहनत करनी पड़ती है और उन्होंने कहा केवल पढ़ाई ही नहीं करनी बल्कि इसके साथ बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता होती है।

  • उन्होंने अपने जीवन में किए गए संघर्षो का उदाहरण देते हुए कहा कि हमें कभी संघर्ष से नहीं डरना है। खरगोश और कछुए की कहानी के माध्यम से उन्होंने कहा कि कछुआ अपनी मंजिल की ओर बढ़ते हुए मार्ग में नहीं रुका। इसीलिए वह अपनी मंजिल को प्राप्त कर सका। उन्होंने कहा आप सभी ने खूब मेहनत करके अपने कॉलेज, माता-पिता तथा प्राध्यापकों का नाम रोशन करना है। उन्होंने कहा कला तो सभी के अंदर छिपी है और इस प्रकार की गतिविधियों के द्वारा अपनी प्रतिभाओं को निखारने का मौका मिलता है और उनके द्वारा आप समाज में अपना योगदान दे सकते हैं। इसके अतिरिक्त उन्होंने कहा कल्चर वहां होता है, जहां एग्रीकल्चर होता है। अंत में गजल गाकर उन्होंने सभी को भावुक कर दिया और कहा अपने प्राध्यापकों का सम्मान करना सीखें क्योंकि वही आपको आपकी मंजिल तक पहुंचा सकते हैं। इसके पश्चात आज के कार्यक्रम से संबंधित जैसे एकल नृत्य समूह नृत्य, एकल गायन, समूह गायन, स्किट आदि अनेक प्रकार की गतिविधियां आरंभ हो गईं, जिसमें महाविद्यालय के अनेक विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया और समा बांध दिया। इस कार्यक्रम में एकल नृत्य प्रतियोगिता में बीए की छात्रा प्रिया ने प्रथम स्थान, सरिता ने द्वितीय स्थान तथा प्रियंका ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। समूह नृत्य में प्रथम स्थान हरियाणवी नृत्य, द्वितीय स्थान पंजाबी नृत्य तथा तृतीय स्थान जयकुमार तथा चेतना ने प्राप्त किया। एकल गायन में बीसीए की छात्रा साक्षी ने प्रथम स्थान, सिमरन ने द्वितीय स्थान तथा बीए के छात्र अभिषेक ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। समूह गायन में बीसीए की छात्राओं साक्षी और सिमरन ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। स्किट के अंतर्गत शिक्षा की भूमिका स्किट ने प्रथम स्थान नशे के दुष्प्रभाव स्किट ने द्वितीय स्थान तथा साइबर क्राइम ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इस कार्यक्रम में मंच का संचालन आरती अरोड़ा तथा डॉक्टर सुमन पंजेटा ने सुचारू रूप से किया। अंत में सांस्कृतिक समिति के संयोजक अमरपाल ने प्राचार्या, मुख्य अतिथि, उपप्राचार्य, प्राध्यापकगणों तथा विद्यार्थियों का धन्यवाद किया। इस कार्यक्रम का विद्यार्थियों ने खूब आनंद उठाया और पूरे महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने इसमें भाग लिया। इस अवसर पर डॉ सुनील तनेजा, डॉ रमेश धारीवाल, आरती अरोड़ा, डॉ सुमन पंजेटा, डॉ मनीषा, करण सिंह, अमरपाल, अनीता, डॉ अमित कपूर, अमित कुमार, मोहिंदर, मंगल सिंह, डॉ बलबीर कुमार, मीनाक्षी, निशा, नीलम, डॉ ममता मग्गो, डॉ अजय रतन, डॉ सतनाम सिंह, अनुकृति तथा अन्य सभी सदस्य मौजूद रहे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles