23.6 C
New York
Saturday, July 13, 2024

Buy now

spot_img

25 जून 1975 का दिन आपातकाल के रूप में लोकतंत्र और राजनीतिक का सबसे दुःखद व काला अध्याय है – कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने

25 जून 1975 का दिन आपातकाल के रूप में लोकतंत्र और राजनीतिक का सबसे दुःखद व काला अध्याय है – कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने

यमुनानगर रविंद्र चौहान प्रदेश एजेण्डा न्यूज़

भाजपा जिला अध्यक्ष राजेश सपरा ने जानकारी देते हुए बताया कि 25 जून 1975 को कांग्रेस सरकार द्वारा भारत देश में जबरन आपातकाल लगाने के विरोध में उठी प्रत्येक आवाज को नमन करते हुए भाजपा जिला कार्यालय यमुना कमल पर एमरजेंसी आपातकाल को काला दिवस के रूप में मनाने के लिए जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर हरियाणा सरकार कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने शिरकत की,भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश सपरा ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र और राजनीति के सबसे काले अध्याय, आपातकाल 25 जून, 1975 का विरोध करने और लोकतांत्रिक मूल्यों की आस्था को संजोकर रखने वाले सभी सत्याग्रहियों को सादर नमन,

आपातकाल के दौरान जेल में यातनाएं सहने वाले लोकतंत्र सेनानी एडवोकेट पवन सिब्बल ने आपातकाल के दौरान उनपर व अन्य लोगों पर दर्ज हुए झूठे मुकदमों की जानकारी दी व बताया कि कैसे जेल में बंद लोगों पर किस प्रकार बुरी से बुरी यातनाएं दी गईं,।

लोकतंत्र सेनानी महाराज कृष्ण पुरी के सुपुत्र गिरीश पुरी ने आपातकाल के दौरान अपने वृद्ध पिता के ऊपर हुए अत्याचारों की जानकारी दी, गिरीश पुरी ने बताया कि कांग्रेस के द्वारा लगाए गए आपातकाल के कृष्ण पुरी शिकार हुए, कृष्ण पुरी को पकड़ कर अम्बाला जेल में रखकर बुरी यातनाएं दी गईं, आपातकाल लागू कर लोगों को नसबंदी व झूठे मुकदमों के नाम पर जबरन फंसाया गया,

मुख्य वक्ता कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा की वर्ष 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का चुनाव इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अवैध घोषित कर दिया था जिससे तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पूरी तरह बौखला गई थी और उन्होंने भारत देश पर जबरन आपातकाल लागू कर दिया, इस आपातकाल के दौरान लोगों के मूलभूत मौलिक अधिकार तक छीन लिए गए, लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ प्रेस की आजादी पर पाबंदी लगा दी गई, लोगों को जबरन जेलों में ठूंसा गया जिसमें बहुत बड़ी संख्या भारत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और जनसंघ के कार्यकर्ताओं की रही, कांग्रेस पार्टी ने उसे समय संविधान को बुरी तरह से रौंदते हुए अपने मनमर्जी के कानून लागू किये, झूठे आरोपों में बंद विपक्षी पार्टियों के नेताओं व आम लोगों को जेल में बुरी यातनाएं दी गई व जेल से बाहर उनके परिजनों को बेवजह तंग किया गया ,वर्ष 1947 में भारत देश के विभाजन के बाद 25 जून 1975 को आपातकाल लागू करना भारत देश के इतिहास का सबसे दुखद अध्याय है जिसकी ज्यादा से ज्यादा निंदा की जानी चाहिए ,कांग्रेस पार्टी ने लोकतंत्र का हमेशा मजाक उड़ाया है,

कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि आपातकाल इमरजेंसी को 50 साल पूरे हो गए हैं,पूरे देश में कांग्रेस पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी को संविधान विरोधी बता करके भाजपा संविधान बदल देगी ऐसा झूठा जो दुष्प्रचार किया है उस कांग्रेस पार्टी की हकीकत यह है कि उसने 80 से ज्यादा बार संविधान को बदला है और लगभग 100 बार से ज्यादा चुनी हुई राज्य सरकारों को बदलकर के राष्ट्रपति शासन लगाया है,

कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने सबसे बड़ा पाप 25 जून 1975 को किया जब उसने भारत के इतिहास में पहली बार 21 महीनों के लिए आपातकाल लगा करके देश के माथे पर एक कभी न मिटने वाला कलंक लगा दिया
भारत की नई पीढ़ी इस बात को कभी नहीं भूलेगी कि 25 जून 1975 को संविधान की धज्जियां उड़ा दी गयी थी,25 जून 1975 को भारत के संविधान को पूरी तरह नकार दिया गया था,25 जून 1975 को देश को जेलखाना बना दिया गया था,25 जून 1975 को देश के तमाम विपक्षी नेताओं को रात के समय जेल में डाल दिया गया था।25 जून 1975 को लोकतंत्र को पूरी तरह तहस-नहस कर दिया गया था।

कृषि मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि आपातकाल के दौरान जिस किसी ने भी आपातकाल का विरोध किया या उसके खिलाफ आवाज उठाई उसे भी झूठे केसों में जेल में बंद कर दिया गया यह बात संविधान के ठीक विपरीत थी ,कांग्रेस कांग्रेस पार्टी ने धारा 356 का दुरुपयोग कर देश भर में विपक्ष की राज्य सरकारों को बेवजह बर्खास्त करके संविधान का मजाक उड़ाया है,आपातकाल का विरोध करने वाले सभी राजनीतिक लोगों व आम जनता का वह आभार व धन्यवाद करते हैं जिन्होंने आपातकाल के खिलाफ पुरजोर आवाज उठाई और आपातकाल को खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ,वह भारतीय जनता पार्टी की ओर से ऐसे सभी लोगों को नमन करते हैं, कार्यक्रम का मंच संचालन जिला महामंत्री कृष्ण सिंगला ने किया,भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में आपातकाल के दौरान जेल में गए हुए जिला यमुनानगर के महाराज कृष्ण पुरी,पवन सिब्बल व लोकतंत्र सेनानी जिनका निधन हो गया है उनके परिवार से सुशील कुमार, रामप्रकाश, हरीश डांग बहुत से लोगों को लोकतंत्र सेनानी के रुप में सम्मानित किया गया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles